Aankhen

आँखें

एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
वर्ष: २००२
संगीतकार: जतिन - ललित, आदेश श्रीवास्तव, नितिन रैकवार
गीतकार: प्रवीण भारद्वाज, प्रसून जोशी, नितिन रैकवार, आतिश कपाड़िया
लेबल: यूनिवर्सल
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
एल्बम क्रेडिट: MUSIC ARRANGED BY: Sunil Singh, Prakash Patel. SONGS RECORDED AT: Sound City, Sahara Studio, Spectral Harmony, Audius. SONGS MIXED BY: Shridhar, अधिक...
 
फ़िल्म क्रेडिट: निर्देशक: विपुल अमृतलाल शाह. कथा: शोभना देसाई, आतिश कपाड़िया. पटकथा: आतिश कपाड़िया, विपुल अमृतलाल शाह. संवाद: आतिश कपाड़िया, अधिक...
 



गाने


 
सॉलिलॉकी / शीर्षक गीत
गायक: अमिताभ बच्चन, रेमो फ़रनैन्डिस, सोनू निगम
संगीतकार: आदेश श्रीवास्तव
गीतकार: आतिश कपाड़िया, प्रसून जोशी
शैली: फ़िल्मी, बोल
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
गुस्ताख़ियाँ
गायक: वसुंधरा दास, आदेश श्रीवास्तव
संगीतकार: आदेश श्रीवास्तव
गीतकार: प्रसून जोशी
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
कुछ कसमें
 
गायक: अलका याज्ञिक, सोनू निगम
संगीतकार: जतिन - ललित
गीतकार: प्रवीण भारद्वाज
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
थीम संगीत
 
गायक: रेमो फ़रनैन्डिस
संगीतकार: आदेश श्रीवास्तव
शैली: फ़िल्मी, पॉप, रॉक
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
फटेला जेब सिल जाएगा
गायक: आदेश श्रीवास्तव, नितिन रैकवार, अरुण बख्शी
संगीतकार: आदेश श्रीवास्तव, नितिन रैकवार, जतिन - ललित
गीतकार: नितिन रैकवार
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
छलका छलका
गायक: अलका याज्ञिक
संगीतकार: जतिन - ललित
गीतकार: प्रवीण भारद्वाज
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
नज़रों ने तेरी
 
गायक: उदित नारायण, अलका याज्ञिक
संगीतकार: जतिन - ललित
गीतकार: प्रवीण भारद्वाज
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
ऑल द बेस्ट
 
गायक: रेमो फ़रनैन्डिस
संगीतकार: जतिन - ललित
गीतकार: प्रवीण भारद्वाज
शैली: फ़िल्मी, रॉक
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 

पुरस्कार


 
  • पुरस्कारों की जानकारी उपलब्ध नहीं है

सामान्य ज्ञान


 

    एल्बम

  • यह फ़िल्म शोभना देसाई की गुजराती नाटक "अँधलो पाटो" पर आधारित थी.
  • यह फ़िल्म विपुल शाह की निर्देशक के रूप में पहली फ़िल्म थी.
  • इस फ़िल्म की रिलीज़ के बाद निर्देशक विपुल शाह और निर्माता गौरंग दोशी के बीच इस बात पर मतभेद हुआ कि फ़िल्म की डीवीडी की आगे की कवर पर विपुल का नाम नहीं छपा था और डीवीडी के पीछे उनका नाम ग़लत छपा था.[1]
  • इस फ़िल्म की शूटिंग ख़त्म होने के बाद विपुल शाह को ऐसा संदेह हुआ कि शायद ऑडियंस को फ़िल्म की अपरंपरागत क्लाइमैक्स पसंद नहीं आएगी. अमिताभ बच्चन को यह क्लाइमैक्स पसंद थी लेकिन विपुल शाह ने भारत के दर्शकों के लिए इसे बदल दिया था. विदेशी दर्शकों के लिए फ़िल्म का ओरिजिनल क्लाइमैक्स ही रखा गया था.[2]



सन्दर्भ


 

प्रतिक्रिया