Anpadh

अनपढ़

एल्बम वर्ग: हिन्दी, फ़िल्म
वर्ष: १९६२
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: राजा मेहदी अली खान
लेबल: सारेगामा
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
एल्बम क्रेडिट: MUSIC ASSISTANTS: Sonik, R.L. Suri, Ghanshyam.
 
फ़िल्म क्रेडिट: निर्देशक: मोहन कुमार. निर्माता: राजेंद्र भाटिया. पटकथा: मोहन कुमार. संवाद: सरशार सैलानी. अभिनेता: माला सिन्हा, अधिक...
 



गाने


 
सिकन्दर ने पोरस से की थी लड़ाई
गायक: महेंद्र कपूर
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: राजा मेहदी अली खान
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
रंग बिरंगी राखी ले के आई बहना
गायक: लता मंगेशकर
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: राजा मेहदी अली खान
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
दुल्हन मारवाड़ की आई छम छम
गायक: आशा भोसले, मोहम्मद रफ़ी
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: राजा मेहदी अली खान
शैली: गुजराती लोक, राजस्थानी लोक, पंजाबी लोक
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
है इसी में प्यार की आबरू
गायक: लता मंगेशकर
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: राजा मेहदी अली खान
शैली: ग़ज़ल
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
आप की नज़रों ने समझा
गायक: लता मंगेशकर
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: राजा मेहदी अली खान
शैली: फ़िल्मी, सुगम
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
वो देखो जला घर किसी का
गायक: लता मंगेशकर
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: राजा मेहदी अली खान
शैली: फ़िल्मी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 
जिया ले गयो जी मोरा साँवरिया
गायक: लता मंगेशकर
संगीतकार: मदन मोहन
गीतकार: राजा मेहदी अली खान
शैली: सुगम, हिन्दुस्तानी
सम्पूर्ण रेटिंग:
मेरी रेटिंग:
 

पुरस्कार


 
  • पुरस्कारों की जानकारी उपलब्ध नहीं है

सामान्य ज्ञान


 

    गीत

  • है इसी में प्यार की आबरू - Naushad was so impressed by this Madan Mohan composition that he said that he would gladly exchange all his songs for this one composition.
  • आप की नज़रों ने समझा - This song started off as a completely different one. On the day the song was supposed to be recorded, the lyricist, Raja Mehdi Ali Khan, came to the director with new lyrics that were more suited to the song situation. Madan Mohan took these lyrics and composed the new song and recorded it the same day.[1]



सन्दर्भ


 

प्रतिक्रिया